Pages

Search This Website

Showing posts with label Gk. Show all posts
Showing posts with label Gk. Show all posts

Tuesday, 1 September 2020

History of 9 August

 History of   9 August 


In This Post, We Are Provide Information About the History of 9 August day.
 World Tribal Day

 World Tribal Day has been celebrated by the United Nations since the year 19 to promote and protect the rights of the indigenous people.


History of   9 August

Singapore became independent

 From the Sanskrit word Sinhapur (Sinhanagar), the country today known as Singapore joined Malaysia after secession from the British Empire.  In the year 19, Singapore became a separate nation from today.

Independence of Singapore
 On August 9, 1965, Singapore became the only country in the world to be liberated against its will.  Singapore was the 14th state of Malaysia to be liberated by the British but was liberated by racial segregation.

  Atomic bomb dropped in Nagasaki

 On this day in the year 19, the United States dropped an atomic bomb known as 'Fat Man' on Nagasaki to bring Japan to surrender in World War II.  The bombing killed at least 50,000 people.
 The 4670 kg Fatman bomb detonated a devastating 21 kg.

 Kakori train robbery 

 Revolutionaries including Ram Prasad Bismil, Ashfaq Ullah Khan, and Chandrasekhar Azad looted a British treasury train near Kakori, UP on August 9, 1925.  This event is of special significance in the history of the revolutionaries who fell on the ground for freedom.

 1173: - Construction of Pizza Tower begins in Italy.
 1851: - The first steam-powered train in America begins.
 1925: - Members of the Hindustan Socialist Republican Association looted the government treasury of Kankori train.
 1942 - During the Quit India Movement, Mahatma Gandhi is arrested in Mumbai by British forces

 International Day of Indigenous Peoples of the World
Also read:

Most Useful Current Affairs Of date 09/08/20


 Addo.  Shiyali Ramamrut Ranganathan


 Dr. who created the ‘column method’ of book classification and later invented the leading method of detailed classification by researching.  Shiyali Ramamrut Ranganathan was born on  He was born on 9/8/1892 in Shiali village of Tanjore district of Tamil Nadu.  The father died when he was only six years old.  He did his M.A. in Mathematics in 1916.  And E.S.  Obtained LT degree in Education in 1917.  English, Mathematics, and Sanskrit were his favorite subjects.  Is.  In 1917 he became a professor of mathematics in the college.

  Is.  Became a librarian at Madras University in 1924.  He then went to England and trained for a year at the School of Librarianship in London.  Returning to Madras, he classified the books according to his own 'colon method'.  Is.  In 192 the Government of India appointed him as the National Professor of Library Science.  In India, he is considered as the creator of the library age and the father of library activities. 

 He replaced Library Anship with Library Science.  For his questionable work as the inventor-organizer of the leading method of book classification.  He has been awarded the Doctor of Literature degree by Delhi University in 1948.  Is.  In 1956, the Government of India conferred the title of Padma Shri.  Is.  In the 19th year, he was awarded a D.A. by the University of Petersburg, USA.  Applauded his work by giving the title of Lit.  Appointed as an expert on the UNESCO Library Committee.  

He also served as chairman of the University Grants Commission's Library Science Curriculum Committee.  Is.  In 1962, he managed a library in Bangalore called the Documentation Research and Training Center.  He died on 9 September 1972.  He was an internationally renowned figure in the field of library science.
Read More »

भारत गैस क्विक बुकिंग कैसे करे ऑनलाइन( ͡° ͜ʖ ͡°)Bharat gas quick booking online

भारत गैस क्विक बुकिंग कैसे करे ऑनलाइन Bharat gas quick booking online 

नमस्कार दोस्तो इस लेख में आप जानेंगे भारत गैस क्विक बुकिंग कैसे कर सकते है ऑनलाइन bharat gas quick booking online या online bharat gas booking कैसे करे।
भारत गैस क्विक बुकिंग कैसे करे ऑनलाइन Bharat gas quick booking online
भारत गैस क्विक बुकिंग कैसे करे ऑनलाइन Bharat gas quick booking online 

भारत गैस क्विक बुकिंग कैसे करे ऑनलाइन Bharat gas quick booking online 

यदि भारत गैस के बारे मे जाने तो यह पूरे भारत के अंदर सबसे बड़ी गैस उद्योग कंपनी है। भारत सरकार द्वारा चलाई जा रही उज्ज्वल योजना के अंतर भारत गैस फ्री मैं महिलाओं को दी जाने वाली कंपनी है।

तीन तरीको से भारत गैस क्विक बुकिंग कर सकते है। जैसे कि 
पहला ऑनलाइन भारत गैस बुकिंग कर सकते है । ऑनलाइन वेबसाइट पर जा कर। 

Online bharat gas booking करने का तरीका हुम् आपको नीचे बताएंगे ।

गैस सिलिंडर एजेंसी द्वारा गैस बुक


दूसरा भारत गैस की एजेंसी मैं जाकर आप भारत गैस सिलेंडर बुकिंग करने वाला एप्लीकेशन फार्म मांग कर भरकर जमा करवा दें।

 या फिर गैस एजेंसी मैं बैठे काम करने वाले को अपनी ओरिजिनल गैस कॉपी दे कर  भारत गैस की बुकिंग करवाने के लिए कह सकते है । 

वो आपका गैस सिलिंडर बुक करके आपको एक पर्ची दे देंगे जिसे दिखाकर आप अपने गैस एजेंसी से गैस ले सकेंगे।

फोन नंबर द्वारा गैस सिलिंडर बुकिंग


तीसरा तरीका है ।भारत गैस द्वारा बताई गए mobile phone number पेर फ़ोन करके आप अपना गैस cylinder बुक करवा सकते है। यह सबसे सरल तरीका है ।

परंतु अगर किसी कारण से आपका मोबाइल number बन्द हो गया है तो आप पहला तरीका अपना सकते है ।

जिसके बारे मे हम नीचे बात करेंगे ।

पर अगर आप अपना भारत गैस मोबाइल नंबर चेंज या रजिस्टर करना चाहते है ऑनलाइन तो आप हमारे नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके हमारा लेख पढ़ सकते है।-भारत गैस मोबाइल नंबर चेंज या रजिस्टर कैसे करे

भारत गैस बुकिंग ऑनलाइन करने से पहले आप के पास आपका login id ओर password होना बहोत जरूरी है ।

अगर आपके पास आपका माय भारत गैस बुकिंग करने का login id ओर पासवर्ड नही है ।

तो आप अपने रजिस्ट्रेशन के लिए यह पढ़े

भारत गैस की वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन कैसे करे bharat gas website per registration kaise kare

Online gas cylinder बुक करने के लिए आपको सबसे पेरहले रजिस्ट्रेशन करना होता है उसके बाद आपको भारत गैस की तरफ से login id ओर password प्राप्त होता है
  • सबसे पहले e bharat gas पर जाए
  • https://my.ebharatgas.com/bharatgas/QuickBook/Index

  • Bharat gas online payment
  • यह आपको registration पर click करना है
  • आपसे consumer number ओर आपके भारत गैस के साथ लिंक mobile number मंगा जाएगा
  • अपना consumer number ओर registered mobile number भरे
  • यह सब डिटेल्स आपके गैस कॉपी पेर दर्ज है आप वहां से देख सकते है
  • नए पेज पर आपसे login id ओर password भरने को कहा जायेगा
  • आप अपनी पसंद का लॉगिन id ओर पासवर्ड भरे 
  • अब register पर click करे
  • आपका login id ओर password बन चुका है

भारत गैस क्विक बुकिंग कैसे करे Bharat gas quick booking online

  • भारत गैस मैं क्विक बुकिंग करने के लिए आपको इनकी official वेबसाइट मय भारत गैस पर जाना होगा
  • यह आपको इस प्रकार का दिरिष्य दिखेगा 

  • भारत गैस ऑनलाइन पेमेंट
    भारत गैस ऑनलाइन पेमेंट
  • अब Quick book and pay पर क्लिक करे
  • अब नए पेज पर आपसे sigh in ओर register रजिस्टर के लिए पूछा जाएगा

  • Bharat gas online booking login
    Bharat gas online booking login
  • यदि आप पहले से id ओर password बना चुके है तो 
  • Sign इन पर क्लिक करे
  • भारत गैस का login id ओर password भरे

  • Bharat gas online booking without otp
  • अपना Login id ओर पासवर्ड भरे 
  • कैप्चा भरे ओर लॉगिन दबाये
  • आपके सामने आपका नाम दिखेगा यदि यह आपका ही नाम है 
  • तो continue पेर क्लिक करे
  • अब आपसे गैस बुकिंग confirm करने को कहा जायेगा 
  • भारत गैस की बुकिंग कन्फर्म करे
  • भुगतान के लिए online payment का माध्यम चुने
  • आप अपने एटीएम कार्ड या अन्य दी गई सुविधा से पेमेंट करे
  • आपका भारत गैस क्विक बुकिंग हो गया है 
  • आपका भारत गैस बुकिंग होने का message आपके फ़ोन पर आ गया होगा जिसमें बताया जाएगा कि आपका गैस कब तक आपके पास पहोच जाएगा

एप्प के माध्यम से ऐसे करे गैस सिलिंडर बुक करे

  • सबसे पहके प्ले स्टोर से bharat gas app डाउनलोड करे
  • lPG id ओर mobile number डाले
  • Otp भरे ,अब आप रजिस्टर हो चुके है

  • online Bharat gas booking
    online Bharat gas booking
  • अब आप quick book &pay का ऑप्शन चुनें
  • डिटेल्स देखे ओर submit दबाये 
  • ऑनलाइन गैस cylinder बुक हो गया है
यह पढ़े

अधिक जानकारी के लिए आप यह वीडियो देखे



निष्कर्ष
तो दोस्तों कैसी लगी आपको यह जानकारी जिसमें हमने आपको बताया है कि आप केसे भारत गैस क्विक बुकिंग कर सकते है bharat gas quick booking और आपके सभी तरह प्रशन के उत्तर देने की कोशिश की है।

 यदि आप कभी भी किसी प्रकार की कोई जानकारी या फिर समझ ना आई हो तो हमें कमेंट के जरिए से संपर्क कर सकते हैं।

 हम आपके पूरी मदद करेंगे।


Read More »

Hemant Soren Ki Jivani Hemant Soren Kon He

 Hemant Soren Ki Jivani Hemant Soren Kon He

हेमंत सोरेन की जीवनी, हेमंत सोरेन कोन है,

हेमंत सोरेन की जीवनी

भारतीय राजनीति में एक से बढ़कर एक बड़े और दिग्गज नेता बैठे हैं, जिन्होंने अपने कार्यकाल के दौरान पूरे भारत में अपना नाम रोशन किया है, जिनमें से झारखंड के वर्तमान मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन हैं।

वह एक अनुभवी नेता हैं, जिन्होंने अकेले दम पर पार्टी की 81 सीटों को अपने कब्जे में कर चुनावी मैदान में प्रवेश किया।

आज हम आपको उनके जीवन से जुड़े कुछ अनकहे तथ्यों के बारे में बताने जा रहे हैं।

कौन हैं हेमंत सोरेन?


Hemant Soren Ki Jivani Hemant Soren Kon He
हेमंत सोरेन
 हेमंत सोरेन को झारखंड के सबसे बड़े मुक्ति मोर्चा के कार्यकर्ता अध्यक्ष के रूप में देखा जाता है। वह पूराने और पुर्व केंद्रीय मंत्री और आदिवासी नेता शिबू सोरेन के बेटे हैं

उन्हें झारखंड के वर्तमान में पांचवीं बार मुख्यमंत्री के रूप में देखा जा रहा है और अपनी शानदार जीत के साथ, उन्होंने वर्ष 2019 में झारखंड का चुनाव वर्ष भी जीता है।

उनके पिता एक बहुत बड़े राजनेता भी रहे हैं, जिसके कारण उन्हें माना झारखंड के अंदर राजनीति के उस्ताद के रूप माना जाता है

हेमंत सोरेन का प्रारंभिक जीवन

  10 अगस्त 1975 को रामगढ़ जिले के नेमरा गाँव में एक महान राजनीतिज्ञ का जन्म हुआ। जिनके माता-पिता का नाम शिबू सोरेन और  रूपी सोरेन था।
उन्होंने बचपन में कभी राजनेता बनने का सपना नहीं देखा था, लेकिन बेहतर राजनेता बनने के लिए उन्होंने झारखंड में अपना सर्वश्रेष्ठ जीता।

 हेमंत ने 1990 के दशक में पटना के एमजी हाई स्कूल से अपनी मैट्रिक पास की। फिर उन्होंने बीआईटी मैकेनिकल इंजीनियरिंग कॉलेज, रांची में दाखिला लिया। कुछ कारणों के कारण, वह अपनी कॉलेज की पढ़ाई पूरी नहीं कर सका।

कुछ समय बाद उनका विवाह कल्पना नाम की लड़की से हुआ जिसके बाद उनके दो बेटे भी हुए। हेमंत सोरेन के दो भाई और एक बहन भी उनके परिवार में शामिल हैं।

 Hemant Soren Ki Jivani Hemant Soren Kon He


हेमंत सोरेन पर विवाद

  हेमंत सोरेन साल 2017 में एक विवाद में सुर्खियों में आए थे। यह उस समय की बात है जब हेमंत को सीएम रघुवर दास ने 'झारखंड ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट' के लिए आमंत्रित किया था।

 उस समय, रघुवर दास को बताया गया था कि यह शिखर भूमि पर कब्जा करने वालों का महान चिंतन शहर है,

 जहां आदिवासियों, मूल निवासियों और राज्य के किसानों की भूमि को लूटने के लिए इस शिखर सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है, इसलिए उन्होंने इस निमंत्रण को अस्वीकार कर दिया।
Read More »

What is imps? imps kya hota hai

What is imps.imps kya hota hai इसके अलावा NEFT, RTGS और IMPS के बीच अंतर और कितना चार्ज लगता है imps ट्रांजैक्शन करने पर वह सब बताएंगे आज आपको।

What is imps? imps kya hota hai

अब भारत नोटों के  भुगतान को समाप्त करने के लिए तैयार है, इसलिए हर कोई NEFT और RTGS के बारे में जानकारी चाहता है।


What is imps? imps kya hota hai
What is imps? imps kya hota hai

 बैंकिंग क्षेत्र में हस्तक्षेप क्यों नहीं किया गया।  यदि आपको नहीं पता है कि डिजिटल इंडिया और डिजिटल इंडिया मिशन क्या हैं, तो आप यहाँ सभी जानकारी पढ़ सकते हैं।

 बैंकिंग अब उन्नत है और घर पर भी उपयोग करना आसान है।  आप दूसरों को भुगतान करने के लिए अपने मोबाइल से NEFT, RTGS और IMPS जैसी बेहतरीन सेवाओं का उपयोग कर सकते हैं।

 वह दिन पुराने दिनों की तरह नहीं था, जहां लोगों को बैंकों में लंबी-लंबी कतारों में खड़ा होना पड़ता था, यहां तक ​​कि फंड ट्रेट्रान जैसे छोटे कामों के लिए या पैसे निकालने के लिए भी।
 ऐसा लग रहा था कि आप इसे बाहर से देखते हैं कि यह एक बैंक की तरह नहीं दिखता था, यह एक मंदिर के रूप में दिख रहा था जहां लोग घूमने आए थे।

 आप अभी भी ऐसा कर सकते हैं, लेकिन मुझे आपके कीमती समय को बर्बाद करने के लिए यहां कोई कारण नहीं दिखता है जब आप अपना काम आसानी से अपने कमरे, कार्यालय या ऐसी जगह से कर सकते हैं जहां इंटरनेट कनेक्शन हो।

 आपके बैंक के साथ हम नेट बैंकिंग सुविधा का उपयोग कर सकते हैं, और आप अपने बिस्तर पर सोते समय कई बैंकिंग सेवाओं का आनंद भी ले सकते हैं।

 चाहे वह आपके क्रेडिट कार्ड का बिल हो, बिजली का बिल हो, रिचार्ज हो या पर्सनल लोन के लिए आवेदन करना हो।  इस सारे काम के लिए आपको अपना घर छोड़ने की जरूरत नहीं है।
 ऐसे कई लोग होंगे जिन्हें इन सेवाओं का उपयोग करना होगा, लेकिन क्या आपको NEFT और RTGS के बीच अंतर के बारे में कोई जानकारी है

यदि नहीं, तो आज आपको इस विषय के बारे में पूरी जानकारी मिलेगी।  तो बिना देरी किए चलिए शुरू करते हैं और जानते हैं कि NEFT, RTGS और IMPS में क्या अंतर है

 NEFT, RTGS और IMPS का उपयोग करके मनी ट्रांसफर के विभिन्न तरीके

 ज्यादातर लोग अक्सर अपने जीवनकाल के दौरान एक या एक से अधिक ऑनलाइन मनी ट्रांसफर मोड का उपयोग करते हैं जैसे कि upi, पैसा भेजना।

 आधुनिक तकनीक आधारित बैंकिंग की मदद से, अब हर कोई इस तकनीक का लाभ उठा रहा है और ऑनलाइन लेनदेन को स्वीकार कर रहा है जो हर दिन विकसित हो रहा है।

 ऑनलाइन बैंकिंग, वह घर पर भी यह सब काम करने में सक्षम है।
 जब धन हस्तांतरण की बात आती है, तो एक खाते से दूसरे खाते में, इसलिए अधिकांश बैंक बहुत सारे विकल्पों का प्रबंधन कर रहे हैं, जो कई कारणों पर आधारित हैं जैसे ग्राहक की आवश्यकता जैसे कि वे अपने पैसे कैसे खर्च करना चाहते हैं

 बैंक कई हस्तांतरण विधियों का प्रबंधन कर रहे हैं जैसे

 (नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड्स ट्रांसफर) (NEFT),
 (रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट) (RTGS),
 (तत्काल भुगतान सेवा (IMPS), आदि
 लेन-देन मूल्य, स्थानांतरण गति, सेवा उपलब्धता जैसे विभिन्न पहलू।

 ये सभी लेनदेन आपको विभिन्न प्रकार की विशेषताओं और लचीलेपन का प्रबंधन करने के लिए एक अच्छा विकल्प बनाते हैं।
 चूंकि इन सभी उपकरणों के अपने फायदे और नुकसान हैं, इसलिए वे ग्राहकों को लचीलापन और सुविधा प्रदान करते हैं।
 इसके साथ, कई बैंक डिजिटल वॉलेट के मालिक हैं जो ऑनलाइन फंड ट्रांसफर के लिए अतिरिक्त तरीकों का प्रबंधन करते हैं।

NEFT, RTGS और IMPS में क्या अंतर है?

  NEFT, RTGS, IMPS न्यूनतम स्थानांतरण मूल्य रु। 1Rs.2 लाख है। अधिकतम स्थानांतरण मूल्य की कोई सीमा (सीमा नहीं) रु। 10 लाख है। निपटारा का एक लाखवापसी-पर-एक समझौता
  निपटान की गति 2 घंटे (जो कट-ऑफ है, समय और बैचों पर निर्भर करती है)

  तुरंत सेवा उपलब्धता में तत्काल: रविवार: 8:00 पूर्वाह्न - 6:30 बजे के बीच 12 बैच।  शनिवार: सुबह 8:00 बजे से 1:00 बजे के बीच 6 बैच  रविवार और बैंक अवकाश:

  अनुपलब्धवेक: 8:00 a.m. - 4:00 p.m शनिवार: 9:00 ए.एम.  - 4:30 रविवार और बैंक अवकाश:
  अनुपलब्ध २४ / action रु। १०००० से १०००० रु। तक - रु .२५० से १००,००० से १ लाख - रु। १ लाख से रु .२ लाख - रु। १५ से २ लाख तक  रु .२५ रु। से ५ लाख तक - रु। ५० लाख से रु। २.५ लाख से रु। २.५५ रु। से ५ लाख तक - रु। ५० से रु। १,०००० तक  - Rs.20000 से Rs.1000 तक - Rs.500000 से Rs.200000 तक - Rs.100000 - Rs.15 ऑनलाइन / ऑफलाइन बूथऑनलाइन

भारत में पैसे कैसे ट्रांसफर करें

 सिर्फ (भारतीयों) के बारे में बात करने के लिए कई फंड या मनी ट्रांसफर के तरीके हैं।  नवीनतम तकनीक की मांग और ऑनलाइन-आधारित सेवा की मांग के कारण, ऐसा कोई पहलू नहीं बचा है, जिसे अभी भी देखा जाना है।

 बैंकिंग और वित्तीय संस्थानों से लेकर शासी निकायों और निजी व्यवसायों तक, वे सभी नवीनतम तकनीक का उपयोग कर रहे हैं, जिसमें शामिल हैं

 इन ग्राहकों, भागीदारों और विक्रेताओं के बीच की दूरी को पूरी तरह से कम कर दिया।

 आज भारत में ऑनलाइन उपयोगकर्ताओं की संख्या बढ़ रही है, इससे इनकार नहीं किया जा सकता है कि अधिक से अधिक लोग अपने पैसे को ऑनलाइन भेजने के लिए, डिजिटल रूप से लेन-देन करना पसंद करते हैं।

 ऑनलाइन फंड ट्रांसफर न केवल तेजी से, इसके सुरक्षित और सुविधाजनक हैं, बल्कि खातों और दस्तावेजों के प्रयोजनों के लिए भी आसानी से उपयोग किए जा सकते हैं।

 पैसे का उपयोग करने के अन्य तरीकों की तुलना में विश्वसनीयता और लागत कारक के मामले में ऑनलाइन स्थानांतरण बहुत बेहतर हैं।

 जो भी सिस्टम आप चाहते हैं, चाहे वे एनईएफटी, आरटीजीएस, या आईएमपीएस हों, वे सभी मजबूत फंड ट्रांसफर विधियों के अनुसार काम करते हैं और लोगों को व्यवसायों और व्यवसायों के लिए फंड ट्रांसफर करने की अनुमति देते हैं।

 कहीं भी और कभी भी दुनिया में।  भारत में अधिकांश बैंक अपने ग्राहकों को शुद्ध बैंकिंग सुविधा प्रदान कर रहे हैं।

 एक कंप्यूटर या स्मार्टफोन जिसमें इंटरनेट एक्सेस है, कोई भी बैंक खाताधारक फंड ट्रांसफर सेक्शन तक पहुंच सकता है और बैंक द्वारा प्रबंधित किसी भी ऑनलाइन बैंकिंग सेवा का उपयोग कर सकता है, उन्हें शारीरिक रूप से बैंक का दौरा करने की आवश्यकता नहीं है।

फंड ट्रांसफर के प्रकार(imps kya hai प्रकार ) 

 देखा जाए तो डिजिटल वॉलेट, UPI आदि जैसे फंड ट्रांसफर करने के लिए कई सिस्टम उपलब्ध हैं।

 इसके अलावा NEFT, RTGS और IMPS बहुत ही सामान्य हैं और सबसे अधिक उपयोग किए जाते हैं।  यदि कोई फंड ट्रांसफर शुरू कर रहा है, तो पैसा ट्रांसफर करने वाले व्यक्ति, जिसे प्रमोटर या रिमिटर या रिमिटर के रूप में भी जाना जाता है, के पास लाभार्थी का मूल खाता विवरण है।

 विवरण जैसे खाता संख्या, लाभार्थी का नाम, खाता संख्या, IFSC और शाखा का नाम आदि।

 ये सभी जानकारी किसी भी हस्तांतरण विधियों के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं।  यह प्रमोटर पर निर्भर करता है, जो यह सुनिश्चित करता है कि फंड ट्रांसफर के लिए दी गई सभी जानकारी सही है या नहीं।

 किसी भी फंड ट्रांसफर के तरीकों को समझने और उनके बीच के अंतर को जानने से पहले, इन भुगतान प्रणालियों के मूल कारकों को पहले सीखना जरूरी है।
 ये महत्वपूर्ण कारक इन ऑनलाइन फंड ट्रांसफर के तरीकों को अलग-अलग मापदंडों में अलग करते हैं -

Imps ki fees kya hai

 1. फंड वैल्यू - आपका फंड वैल्यू यह तय करना बहुत जरूरी है कि किस ट्रांसफ्यूजन के तरीके का इस्तेमाल किया जाए।
 आपके फंड का मूल्य निर्धारित करता है कि आप शंक्वाकार हस्तांतरण विधि का उपयोग करते हैं या नहीं।  इसके साथ, यदि आप एक नया लाभार्थी जोड़ते हैं, तो आपको सीमित मात्रा में धन हस्तांतरण की अनुमति होगी।

 तो अगर आपके पास इस ऑनलाइन ट्रांसफर फंडिंग में नए ट्रांसफर हैं तो आप अपने बैंक के फंड ट्रांसफर के लिए सबसे अच्छे वकील होंगे।

 2. टाइमिंग (सेवा की उपलब्धता) - कुछ तरीके फंड ट्रांसफर हैं, जो 24/7 यूजर को ऑनलाइन ट्रांसफर की अनुमति देता है, जिसमें विशिष्ट समय में कुछ ही स्वीकार्य होता है।

 इसलिए फंड ट्रांसफर से पहले, यह बहुत महत्वपूर्ण है कि आप इन फंडों के समय के बारे में जानें, जो भी फंड ट्रांसफर विधि आप उपयोग कर रहे हैं।  क्योंकि छुट्टियों के दौरान कुछ फंड ट्रांसफर के तरीकों का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है।

 3. फंड सेटलमेंट स्पीड - आम तौर पर, यह पाया गया है कि लोग फंड वैल्यू के बाद सेटलमेंट स्पीड फैक्टर पर ज्यादा ध्यान देते हैं।  सभी फंड ट्रांसफर के तरीके अलग-अलग हैं।

 फंड सेटलमेंट की गति।  फंड सेटलमेंट की गति किसी भी फंड को शुरू होने से पहले उसके खाते को निपटाने या उस तक पहुंचने में लगने वाले समय को संदर्भित करती है।

 ज्यादातर मामलों में लोग लेन-देन की गति को देखते हैं और हस्तांतरण के तरीकों का चयन करते हैं, लेकिन एक बात का ध्यान रखना चाहिए कि आपकी निपटान गति जितनी अधिक होगी, उतना ही आपको अतिरिक्त शुल्क का भुगतान करना होगा।

 4. फीस - भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के अनुसार, बैंक तय करते हैं कि एंगल से फंड ट्रांसफर के तरीकों के लिए कितना ट्रांजेक्शन चार्ज लगाया जाएगा।

 इन शुल्कों को कुछ वस्तुओं पर लगाया जाता है जो कि बैंक द्वारा प्रदान किए गए धन, निपटान गति और अन्य सुविधाओं / लचीलेपन का कुल मूल्य है।  इसके साथ ही, सरकार फंड ट्रांसफर लेनदेन पर सेवा शुल्क भी लगाती है।

 मूल और लाभार्थियों दोनों को सलाह दी जाती है कि वे अपने बैंक की वेबसाइट से लेनदेन शुल्क की नवीनतम सूची प्राप्त करें और यह भी जानें कि ऑनलाइन स्थानांतरण के लिए कितना शुल्क लिया गया है।  क्योंकि अलग-अलग बैंकों के अलग-अलग चार्ज हैं।

 5. लेनदेन सीमाएँ - एक सुरक्षित बैंकिंग सुविधाओं और स्वस्थ प्रथाओं के आधार पर, सभी बैंकिंग और वित्तीय संस्थान अपने अधिकांश बैंकिंग और वित्तीय उत्पादों में लेनदेन की सीमा निर्धारित करते हैं।

 RBI इन सभी लेन-देन सीमाओं को नियंत्रित करता है और भुगतान और निपटान प्रणाली (BPSS) के विनियमन और पर्यवेक्षण बोर्ड के साथ दूसरे फंड ट्रांसफर के तथ्यों को भी बनाए रखता है।

 BPSS RBI के केंद्रीय बोर्ड में एक उपसमिति है और इसे विशेष रूप से भारत या भारत में भुगतान प्रणालियों को तय करने और नियंत्रित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

 इसके अलावा, BPSS भुगतान और निपटान प्रणालियों की भी निगरानी करता है।

 क्योंकि पैसे के हस्तांतरण में कई कारक शामिल होते हैं, ये कुछ बहुत महत्वपूर्ण और बुनियादी कारक थे जो एक हस्तांतरण विधि को दूसरे से अलग करते हैं।

 इस मामले में सभी कारकों का हस्तांतरण विधियों पर सीधा प्रभाव पड़ता है, जिससे हमारे लिए यह समझना आसान हो जाता है कि स्थानांतरण विकल्प विकल्पों में क्या अंतर हैं।

 ग्राहक की पात्रता और ऑनलाइन हस्तांतरण विधियों तक पहुंच का स्तर जो बैंक अनुदान बहुत महत्वपूर्ण है।  इसके साथ, ग्राहक के लिए फंड मूल्य, समय, निपटान गति और अन्य कारक इन ऑनलाइन फंड ट्रांसफर विधियों पर निर्भर करते हैं, यह जानने के लिए कि उन्हें किस ट्रांसफर पद्धति का चयन करना चाहिए।

 वर्तमान में, नेफ्ट और rtgs, और IMPS भारत में धनराशि स्थानांतरित करने के लिए सबसे लोकप्रिय तरीकों में से हैं, कुछ उल्लेखनीय अंतरों के संदर्भ में जो आपको उन्हें समझने में मदद करेंगे।

 एनईएफटी - इस पद्धति के अनुसार एक ट्रांसफर बैच के माध्यम से फंड किया जाता है (जो कि डिफर्ड नेट सेटलमेंट (डीएनएस) पर आधारित है) और दिन के निश्चित समय पर भी।  यदि कट-ऑफ टाइम के बाद फंड ट्रांसफर शुरू किया जाता है, तो इसे अगले कार्य दिवस पर निपटाया जाएगा।

 अब बात करते हैं NEFT के फंड ट्रांसफर रिक्वेस्ट के बारे में 12 बैचों में सुबह 8 से शाम 7 बजे तक।  सप्ताह के दिनों में सुबह 8 से 1 बजे और छह बैचों में।  यह शनिवार को किया जाता है।  NEFT सुविधा रविवार और बैंक छुट्टियों पर उपलब्ध नहीं है।

 एनईएफटी की लागत-प्रभावशीलता के सबसे बड़े लाभों में से एक, जहां एक व्यक्ति जो एक छोटे से मूल्य को स्थानांतरित करना चाहता है, वह लेनदेन शुल्क और सेवा शुल्क के बारे में चिंता करना नहीं है।  क्योंकि एक छोटे से शुल्क के साथ, वे एनईएफटी के माध्यम से अपने भुगतान आसानी से स्थानांतरित कर सकते हैं।
 इसलिए ऑनलाइन फंड ट्रांसफर के लिए एनईएफटी एक बहुत ही लोकप्रिय और अत्यधिक प्रभावी तरीका है।

 एनईएफटी के तहत लेनदेन: आसानी से आरंभ और व्यवस्थित करें।  यह महत्वपूर्ण है कि बैंकों के पास एनईएफटी ट्रांसफर नेटवर्क (एनईएफटी-सक्षम) सक्षम हो।

 इस जोड़ के साथ, लाभार्थी को जोड़ने के बाद ही फंड ट्रांसफर किया जा सकता है।

 आरटीजीएस - इस तरह के ट्रांसफर के तरीकों के माध्यम से फंड ट्रांसफर 2 लाख रुपये से 10 लाख रुपये तक किया जा सकता है, लेकिन इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि आरटीजीएस सबसे तेज़ / वास्तविक समय निपटान मोड है।

 पैसा रिसीवर के खाते में पहुंचता है क्योंकि प्रेषक का खाता डेबिट हो जाता है।

 लेकिन इस सुविधा के लिए, दोनों बैंकों में RTGS सुविधा सक्षम होनी चाहिए।  अगर देखा जाए तो RBI द्वारा बाधा उत्पन्न होने वाले सभी बैंक RTGS हस्तांतरण नेटवर्क इस सुविधा में उपलब्ध हैं।

 यह सलाह दी जाती है कि व्यक्तियों को अपने बैंक के सीधे संपर्क में होना चाहिए और उन्हें अपने ऑनलाइन बैंकिंग अनुभाग का उल्लेख करना चाहिए ताकि यह पता लगाया जा सके कि वे इस आरटीजीएस भुगतान प्रणाली के लिए पात्र हैं या नहीं।  ।  आरटीजीएस लेन-देन अन्य तरीकों से अधिक लंबा है।


 आरटीजीएस में एक न्यूनतम और अधिकतम और हस्तांतरण मूल्य सीमा है, लेकिन उच्च मूल्य वाले फंडों को स्थानांतरित करने के लिए यह एक बहुत ही कुशल साधन है जो जल्द ही अपने फंड को स्थानांतरित करना होगा।

अब आप जानेंगे rtgs और imps kya hota hai


 RTGS kya hota hai- एक बहुत ही लोकप्रिय ऑनलाइन फंड है जो माध्यम को स्थानांतरित करता है।  दक्षता, गति और विश्वसनीयता कारक

 IMPS kya hota hai - यह मनी ट्रांसफर के लिए सबसे लोकप्रिय और सबसे तेज़ तरीका है।  जबकि बैंक छुट्टियों के दौरान और काम के घंटों के दौरान फंड ट्रांसफर बंद रहता है, IMPS लगातार 24/7 काम कर रहा है ताकि आप दिन के किसी भी समय फंड ट्रांसफर कर सकें।

 नेफ्ट और rtgs और imps के ट्रांसफर रेंज के बीच अंतर।

 उदाहरण के लिए, आप कम मूल्य के फंडों को IMPS में स्थानांतरित कर सकते हैं लेकिन इसमें आप उन फंडों को जल्दी से निपटा सकते हैं जो इसे अद्वितीय बनाते हैं।
 एक नजर में,

 IMPS NEFT और RTGS के संयुक्त संस्करण के रूप में कार्य करता है, जहां प्रेषक को फंड के आकार और सेवा की उपलब्धता के बारे में चिंता करने की आवश्यकता नहीं है।
 IMPS सुविधा केवल इंटरनेट और ऑनलाइन बैंकिंग सेवाओं में प्रदान की जाती है।  कुछ बैंक एसएमएस-आधारित IMPS सेवा के अंत में मोबाइल बैंकिंग उपयोगकर्ताओं को यह पेशकश कर सकते हैं।

 भारत में सभी डिजिटल वॉलेट कंपनी।  किसी व्यक्ति के खाते से उसके बैंक खाते में पैसे भेजने के लिए केवल IMPS सेवाओं का उपयोग करें।  ITA सिक्योर और IMPS एक तेज़ फंड और मनी सेटलमेंट की सुविधा प्रदान करते हैं, इसकी लेनदेन फीस NEFT की तरह कम है

 महत्वपूर्ण जानकारी जो फंड ट्रांसफर शुरू करने से पहले संबोधित की जानी चाहिए

हेमंत सोरेन की जीवनी

 आपको यह भी जानना आवश्यक है।


 1. टाइमिंग- सभी फंड ट्रांसफर के तरीके बैंकों के अनुसार अलग-अलग होते हैं।  क्योंकि एनईएफटी और आरटीजीएस मोटे तौर पर बैंकों के काम के घंटों पर आधारित होते हैं

 2. जीएसटी - जीएसटी नवीनतम मानदंडों के अनुसार लेनदेन शुल्क पर भी लागू होता है जो बदल रहे हैं।

 3. लेन-देन शुल्क - आपके लेन-देन को करने के लिए बैंक द्वारा बहुत कम शुल्क लिया जाता है।

 4. ट्रांसफर नेटवर्क - यहां प्रेषक को यह जांचना होगा कि लाभार्थी का खाता धन प्राप्त करने के योग्य है या नहीं।  क्योंकि उन्हें धन प्राप्त करने के लिए स्थानांतरण नेटवर्क का हिस्सा होना चाहिए।

 यहां आपके लिए एक वीडियो है।  जो ( imps kya hota hai)  आपकी शंकाओं को दूर करेगा।

 मुझे लगता है कि आप सभी ने neft और imps kya hota hai पता चला गया। 
Read More »

Aahar Kya He- Aahar K Prakar

 आहार क्या है।आहार के प्रकार ( ͡° ͜ʖ ͡°) 2020

आहार - आज हम बात करेंगे( आहार क्या है।आहार के प्रकार )  के बारे में पर उससे पहले यह जान लें कि आज जो कुछ भी बिक रहा है। आहार के नाम पर  वह सब मिलावटी है।सब में मिलावट के कारण कुछ न कुछ कमी आ गई है।
जो कि हमारे शरीर को खराब करती है।

आप सभी से यही निवेदन है कि कृपया आप बाहर की चीजें तली हुई चीजें बिल्कुल भी ना खाएं।

आप सभी से यही निवेदन है, कि कृपया आप बाहर की चीजें तली हुई चीजें न्यूडल बर्गर इत्यादि कुछ भी ना खाएं।
आहार क्या है।आहार के प्रकार


आहार क्या है -  

आहार एक ऐसी वस्तु का नाम है।जो हमारे शरीर में जाकर शरीर का भाग बन जाती है और हमारे शरीर को बहुत सारी बदलाव करती है।

नई वस्तुओं का निर्माण करती है भीतरी  टूट-फूट की मरम्मत करती है।  और शरीर में गर्मी तथा शक्ति उत्पन्न करती है जिससे हमारे काम कर सकते हैं।
आहार क्या है आहार के प्रकार
आहार क्या है।आहार के प्रकार

आहार के प्रकार 

आहार तीन प्रकार के होते हैं 
  1. सात्विक 
  2. राजसिक 
  3. तामसिक 

सात्विक

हमारे शरीर और मन दोनों को स्वस्थ रखने के लिए सात्विक भोजन किया जाता है।यह भोजन हमें दिमागी और शारीरिक रोगों से लड़ने और उन्हें दूर रखने में हमारी मदद करता है।

 हर एक व्यक्ति को स्वस्थ जीवन जीने और उसका स्वास्थ्य जीवन बिताने में पूरी सहायता करता है।

  • गर्म ताजा पका हुआ भोजन
  • सादा भोजन 
  • को सात्विक भोजन और जरूरी पोषण प्रदान करने वाला भोजन माना गया है।

राजसिक 

क्या भोजन हमारे दिमाग और शारीरिक रूप को स्वस्थ बनाए रखने के लिए बहुत ही कारगर भोजन है।

राजसिक भोजन में सभी प्रकार के पदार्थ आते हैं जैसे कि
  •  दही 
  • नींबू 
  • हर एक प्रकार के गरम मसाले
  •  हर एक प्रकार के दाल
  • खट्टे पदार्थ
  •  नमकीन आदि
आहार क्या है।आहार के प्रकार

तामसिक - 

तामसिक भोजन एक ऐसा भोजन है,  जिससे हर एक पुरुष बहुत ही पसंद करता है।अपने शरीर को मजबूत और शक्तिशाली बनाने की चाह रखता है।

इस तरह के भोजन का प्रयोग कुश्ती करने वाले कसरत करने वाले और अखाड़ा लड़ने वाले व्यक्ति  बहुत ज्यादा करते हैं।

या कुछ भोजन है जो तामसिक भोजन की श्रेणी में रखे गए हैं। जैसे कि

  • मांस 
  • मछली
  •  अंडा
  •   दूध
  •  ब्राउन ब्रेड
  •  मूंगफली
  •  चना
  •  सोयाबीन
  •  पनीर
  •  दूध से बनने वाली कई प्रकार की चीजें आदि।


निष्कर्ष 

हमें उम्मीद है कि आपको हमारे यहां पोस्ट (आहार क्या है)  बहुत पसंद आया होगा। अगर इसमें कोई आपको कमी लगती है तो आप हमें पूछ सकते हैं।

अगर आपको किसी और प्रकार की  कोई जानकारी चाहिए या फिर आपको हमारे इस पोस्ट में किसी प्रकार की कोई कमी लगती है तो हमें जरूर कमेंट कर कर बताएं। 
Read More »