Pages

Search This Website

Showing posts with label Health Tips. Show all posts
Showing posts with label Health Tips. Show all posts

Tuesday, 8 September 2020

Bhojan Ke Pramukh Karya Kya He

 भोजन के प्रमुख कार्यभोजन के प्रमुख कार्य  को समझने से पहले हमें यह समझना होगा कि भोजन हमारे लिए जरूरी क्यों है|

  • भोजन क्यों आवश्यक है

Bhojan Ke Pramukh Karya Kya He
भोजन के प्रमुख कार्य क्या है? शक्ति का स्रोत

इस दुनिया में पल रहे कोई भी जीव ऐसा नहीं है जिसे भोजन की आवश्यकता ना पड़ती हो बिना भोजन के बोल रहा ही नहीं सकता|

 पृथ्वी पर रह रहे हर एक जीव को कार्य करने के लिए ऊर्जा की आवश्यकता पड़ती है, और वह ऊर्जा आपको भोजन से ही मिलती है किसी और परकार की कोई भी वस्तु से आपको ऊर्जा नहीं मिलता|

 ऊर्जा के अलावा भोजन हमें कई ऐसे पोषक तत्व देता है जिससे हमें बीमारियां नहीं होती हैं और हमें उन बीमारियों से लड़ने की शक्ति भी प्रदान करता है|

 जन्म से लेकर मरण तक हमारे शरीर को विकसित करने में हमारी मदद करता| इसीलिए भोजन की आवश्यकता हम सभी को हैं|आशा है कि आप सभी समझ गए होंगे|अब हम बात करेंगे भोजन के प्रमुख कार्यों के ऊपर|

भोजन के प्रमुख कार्य क्या है |

  1. शरीर की वृद्धि एवं विकास
  2. शक्ति का स्रोत
  3. शरीर का ताप
  4. बेजान सेलो का पुन :बनना
  5. शारीरिक प्रणालियों का ठीक काम करना
शरीर की वृद्धि एवं विकास: जिस समय मनुष्य पैदा होता है तब उसका आकार बहुत ही छोटा होता है मानो मनुष्य के  एक हाथ से भी छोटा होता है |

 परंतु जैसे-जैसे समय बीतता जाता है| तब हम अपनी आंखों से जब उसे देखते हैं |वह बड़ा होता जाता है| जिसका सबसे मुख्य कारण यही है कि जैसे-जैसे वह भोजन ग्रहण करता रहता है|

उसके शरीर में छोटे-छोटे सैल बढ़ते रहते हैं |जिसकी वजह से उसका शरीर विकसित होता जाता है |

  शक्ति का स्रोत: शरीर को हमेशा किसी भी कार्य को संपूर्ण करने के लिए ताकत की जरूरत होती है|

 जैसे एक मोटरसाइकिल में पेट्रोल खत्म हो जाए तो वह नहीं चलता उसे पेट्रोल की जरूरत होती है, उसी प्रकार शरीर रूपी मशीन को चलाने हेतु भोजन पेट्रोल का काम करता है |

 यह भोजन की  ही देन है कि हम सदा चलते-फिरते तथा दौड़ते रहते हैं यदि हम अच्छा तथा संतुलित भोजन  करना चाहिए जिससे शरीर ताकतवर तथा त मजबूत होता है|

  शरीर का ताप: मानव जो भी भोजन खाता है।  वह पाचन प्रणाली तथा आंतों में जाकर कई परिवर्तन धारण कर लेता है.

इसमें जो रस निकलता है,  फिर वह रक्त द्वारा शरीर के सभी हिस्सों में पहुंचता है तथा शरीर की सर्दी गर्मी की मात्रा ठीक रखता है और शरीर को हर एक तरह की बीमारियों से बचाता है|

  बेजान सेंलो का पूर्ण बननाजब वह बैठ कर आराम कर रहे हो तब भी शरीर के कुछ अंग काम करते हैं उस समय शरीर में सेंलो की टूट-फूट होती रहती है.

  इस टूट-फूट से शरीर में गर्मी पैदा होती है तथा कुछ सेल बेजान हो जाते हैं इन बेजान सेलों को पुन  बनाने के लिए भोजन की जरूरत पड़ती है|

  शारीरिक प्रणालियों का ठीक काम करना मनुष्य के शरीर में जितने भी अंग है,  वह अपना अपना काम करते रहते हैं चाहे आप हीले  चाहे डोले, चाहे आप कुछ भी ना करें फिर भी वह अपना काम करते रहते हैं.

 कई अंगों को मिलाकर एक प्रणाली बन जाती है जो अपना सारा कामकरते रहते हैं |

 मनुष्य के शरीर में कई प्रकार की प्रणालियां है, जैसे 

  • रेक्त चक्र प्रणाली,

  • भोजन प्रणाली 

  • श्वास प्रणाली आदि |

 इन प्रणालियों को ठीक तरह से काम करने के लिए खनिज लवण तथा विटामिन की जरूरत पड़ती है|

यह भी पढें - आहार क्या है। आहार के प्रकार 



अब आपने यह पूरा आर्टिकल पढ़ लिया है तो आपको अब पता लग गया होगा कि भोजन के प्रमुख कार्य क्या होते हैं? 

   यदि आपको किसी भी प्रोकर की जानकारी नही पता चलती है तो किर्पया आप कमेंट के जरिये पूछ सकते है ।यदि आप किसी नए लेख के लिए जानकारी चाहते है और वह लेख हमारी वेबसाइट पर नही है तो आप हमें कमेंट के जरिये बात सकते है।
Read More »

Rasayanik Pachan And Pachan Kriya Kya He

 रासायनिक पाचन और पाचन प्रक्रिया क्या है? 


रासायनिक पाचन और पाचन प्रक्रिया: मनुष्यों के अंदर विकसित होने वाली हर चीज रासायनिक पाचन और पाचन प्रक्रिया द्वारा निर्धारित होती है।

 रासायनिक पाचन और पाचन प्रक्रिया 

के ऊपर सारी जानकारी आज आपको इस आर्टिकल में मिल जाएगी।

 इससे आपको पता चल जाएगा कि रासायनिक पाचन और पाचन प्रक्रिया क्या है।
Rasayanik Pachan And Pachan Kriya Kya He
पाचन तंत्र

रसायनिक पाचन क्या है ।

जब हम खाना खाने और खाना पचाने की बात करते हैं। तो, हमारा भोजन सिर्फ दांतों से चबाने से नहीं पचता है,

 इसे पहले हमारे मुंह से हमारे पेट तक जाना पड़ता है, फिर प्रक्रिया शुरू होती है जिसके बाद यह पच जाता है।

रासायनिक पाचन का उद्देश्य।

भोजन कुछ ही समय में आपके मुंह से आपके पाचन तंत्र में चला जाता है, यह पाचन एंजाइमों द्वारा टूट जाता है और बहुत छोटा हो जाता है।

 इसे छोटे पोषक तत्वों में बदल देता है जिसे आपका शरीर आसानी से अवशोषित कर सकता है। इसके बिना, आप कुछ भी खाते हैं।

आपका शरीर पोषक तत्वों को अवशोषित नहीं कर सकता है। अधिक जानकारी के लिए पढ़ते रहें

रासायनिक पाचन और यांत्रिक पाचन प्रक्रिया  के बीच अंतर।

हमारा शरीर भोजन को पचाने के लिए दो प्रकार के तरीकों का उपयोग करता है।  जो मनुष्य द्वारा खाया जाता है, एक रासायनिक पाचन है और दूसरा यांत्रिक पाचन है।आप जानते हैं कि रासायनिक पाचन क्या है क्योंकि मैंने आपको उपरोक्त पैराग्राफ में इसके बारे में बताया था, अब हम यांत्रिक पाचन प्रक्रिया  के बारे में बात करेंगे।

यांत्रिक पाचन क्या है

यांत्रिक पाचन आपके मुंह से चबाने के साथ शुरू होता है, फिर पाइप और विभाजन द्वारा पेट में मंथन करने के लिए छोटी आंत में जाता है। पेरिस्टलसिस भी यांत्रिक पाचन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।

 यह अनैच्छिक संकुचन और आपके अन्नप्रणाली, पेट, और आंतों की मांसपेशियों को छूट देता है जो आप खाते हैं। और इसे अपने पाचन तंत्र के माध्यम से स्थानांतरित करते हैं।

अंततः भोजन पच जाता है। विभिन्न प्रकार के पोषण में रासायनिक पाचन या पाचन प्रक्रिया द्वारा टूटना शामिल होता है। जैसे कि प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और वसा, और यहां तक ​​कि छोटे हिस्से।

वसा: फैटी एसिड और मोनोग्लिसरॉइड के लिए टूट जाते हैं और फैल जाते हैं।

न्यूक्लिक एसिड: न्यूक्लियोटाइड में टूट जाते हैं।

पॉलीसेकेराइड, या कार्बोहाइड्रेट शर्करा: मोनोसैकराइड में टूट जाते हैं।

  प्रोटीन: अमीनो एसिड में टूट जाते हैं। हमारे शरीर में किसी भी पोषक तत्व को रसायनों के बिना अवशोषित किया जा सकता है। जहां पाचन एंजाइम रासायनिक पाचन या पाचन प्रक्रिया के दौरान पाए जाते हैं। मुंह में पाए जाने वाले पाचक एंजाइम दो प्रकार के होते हैं

  लिंगीय लिप्सा: यह एंजाइम ट्राइग्लिसराइड्स, एक प्रकार की वसा को तोड़ता है। लारयुक्त एमाइलेज: यह एंजाइम पॉलीसेकेराइड को तोड़ता है, एक जटिल शर्करा जो कार्बोहाइड्रेट है।

पढेंः भोजन के प्रमुख कार्य क्या है 

रासायनिक पाचन किस मार्ग का अनुसरण करता है।

1.पेट
2.छोटी आंत
3.बड़ी आँत
रासायनिक पाचन और पाचन प्रक्रिया नीचे की रेखा का पालन करते हैं।

  1.पेट: मानव पेट में, उनकी अनूठी मुख्य कोशिकाएं पाचन एंजाइमों का स्राव करती हैं। यह दो प्रकार की होती है।  एक पेप्सिन है, जो प्रोटीन को छोटे आकार में तोड़ता है।

एक गैस्ट्रिक लाइपेस है, जो ट्राइग्लिसराइड्स को तोड़ता है। मानव पेट में, शरीर वसा-घुलनशील पदार्थों, जैसे एस्पिरिन और शराब को अवशोषित करता है।

  2.छोटी आंत: छोटी आंत मानव शरीर के प्रमुख और महत्वपूर्ण भागों में से एक है। जो रासायनिक खाद्य पदार्थों और ऊर्जा के लिए अमीनो एसिड, पेप्टाइड्स और ग्लूकोज जैसे प्रमुख खाद्य घटकों के अवशोषण और अवशोषण में मदद करता है।

 पाचन के लिए, छोटी आंत में और अग्न्याशय के पास कई प्रकार के एंजाइम जारी होते हैं।

 इनमें लैक्टोज को पचाने और शर्करा और शर्करा को पचाने के लिए सुक्रोज शामिल हैं।

  3.बड़ी आंत: बड़ी आंत पाचन एंजाइम को रिलीज नहीं करती है, लेकिन इसमें बैक्टीरिया होते हैं जो भोजन से मिलने वाले पोषक तत्वों को तोड़ देते हैं।
यह विटामिन, खनिज और पानी के अवशोषण में भी मदद करता है।

  4.निचला रेखा: रासायनिक पाचन पाचन प्रक्रिया का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है। इसके बिना, मानव शरीर मनुष्यों द्वारा खाद्य पदार्थों के पोषक तत्वों को अवशोषित करने में सक्षम नहीं हो सकता है।

 दूसरी ओर  यांत्रिक पाचन और मांसपेशियों के संकुचन की तरह शारीरिक गतिविधियों को हल करता है, लेकिन रासायनिक पाचन में।

वे भोजन को तोड़ने के लिए एंजाइम का उपयोग करते हैं।

Rasayanik Pachan And Pachan Kriya Kya He



दोस्तों यह रासायनिक पाचन और पाचन प्रक्रिया के बारे में कुछ जानकारी थी।
Read More »

Tuesday, 1 September 2020

Aahar Kya He- Aahar K Prakar

 आहार क्या है।आहार के प्रकार ( ͡° ͜ʖ ͡°) 2020

आहार - आज हम बात करेंगे( आहार क्या है।आहार के प्रकार )  के बारे में पर उससे पहले यह जान लें कि आज जो कुछ भी बिक रहा है। आहार के नाम पर  वह सब मिलावटी है।सब में मिलावट के कारण कुछ न कुछ कमी आ गई है।
जो कि हमारे शरीर को खराब करती है।

आप सभी से यही निवेदन है कि कृपया आप बाहर की चीजें तली हुई चीजें बिल्कुल भी ना खाएं।

आप सभी से यही निवेदन है, कि कृपया आप बाहर की चीजें तली हुई चीजें न्यूडल बर्गर इत्यादि कुछ भी ना खाएं।
आहार क्या है।आहार के प्रकार


आहार क्या है -  

आहार एक ऐसी वस्तु का नाम है।जो हमारे शरीर में जाकर शरीर का भाग बन जाती है और हमारे शरीर को बहुत सारी बदलाव करती है।

नई वस्तुओं का निर्माण करती है भीतरी  टूट-फूट की मरम्मत करती है।  और शरीर में गर्मी तथा शक्ति उत्पन्न करती है जिससे हमारे काम कर सकते हैं।
आहार क्या है आहार के प्रकार
आहार क्या है।आहार के प्रकार

आहार के प्रकार 

आहार तीन प्रकार के होते हैं 
  1. सात्विक 
  2. राजसिक 
  3. तामसिक 

सात्विक

हमारे शरीर और मन दोनों को स्वस्थ रखने के लिए सात्विक भोजन किया जाता है।यह भोजन हमें दिमागी और शारीरिक रोगों से लड़ने और उन्हें दूर रखने में हमारी मदद करता है।

 हर एक व्यक्ति को स्वस्थ जीवन जीने और उसका स्वास्थ्य जीवन बिताने में पूरी सहायता करता है।

  • गर्म ताजा पका हुआ भोजन
  • सादा भोजन 
  • को सात्विक भोजन और जरूरी पोषण प्रदान करने वाला भोजन माना गया है।

राजसिक 

क्या भोजन हमारे दिमाग और शारीरिक रूप को स्वस्थ बनाए रखने के लिए बहुत ही कारगर भोजन है।

राजसिक भोजन में सभी प्रकार के पदार्थ आते हैं जैसे कि
  •  दही 
  • नींबू 
  • हर एक प्रकार के गरम मसाले
  •  हर एक प्रकार के दाल
  • खट्टे पदार्थ
  •  नमकीन आदि
आहार क्या है।आहार के प्रकार

तामसिक - 

तामसिक भोजन एक ऐसा भोजन है,  जिससे हर एक पुरुष बहुत ही पसंद करता है।अपने शरीर को मजबूत और शक्तिशाली बनाने की चाह रखता है।

इस तरह के भोजन का प्रयोग कुश्ती करने वाले कसरत करने वाले और अखाड़ा लड़ने वाले व्यक्ति  बहुत ज्यादा करते हैं।

या कुछ भोजन है जो तामसिक भोजन की श्रेणी में रखे गए हैं। जैसे कि

  • मांस 
  • मछली
  •  अंडा
  •   दूध
  •  ब्राउन ब्रेड
  •  मूंगफली
  •  चना
  •  सोयाबीन
  •  पनीर
  •  दूध से बनने वाली कई प्रकार की चीजें आदि।


निष्कर्ष 

हमें उम्मीद है कि आपको हमारे यहां पोस्ट (आहार क्या है)  बहुत पसंद आया होगा। अगर इसमें कोई आपको कमी लगती है तो आप हमें पूछ सकते हैं।

अगर आपको किसी और प्रकार की  कोई जानकारी चाहिए या फिर आपको हमारे इस पोस्ट में किसी प्रकार की कोई कमी लगती है तो हमें जरूर कमेंट कर कर बताएं। 
Read More »